अग्निवीर भर्ती : दौड़ते समय इन बातों का रखें ध्यान, नहीं होगी थकान, हेल्थ एक्सपर्ट ने दिए टिप्स

Gypsy News

Gypsy News

धीर राजपूत/फिरोजाबाद: फीरोजाबाद समेत देश के युवाओं में इन दिनों अग्निवीर एवं पुलिस भर्ती परीक्षा के लिए खासा जोश देखने को मिल रहा है. कड़कड़ाती ठंड में भी युवा फिजिकल की तैयारी में जुटे हुए है. सुबह 5 बजे से ही युवा फिजिकल की तैयारी के लिए दौड़ते और पुश अप्स लगाते हुए नजर आ जाएंगे. हालांकि दौडऩे के कुछ नियम होते हैं, जिनका फॉलो करना जरूरी है. हर व्यक्ति की शारीरिक क्षमता, बॉडी टाइप और जरूरतें अलग होती हैं, इसी के हिसाब से दौड़ने के नियम तय होते हैं . दौड़ते समय बातों का ध्यान रखना होगा ताकि भर्ती की तैयारी करते समय उनकी हेल्थ अच्छी रहे और हार्ट अटैक जैसी बीमारियों का खतरा भी नहीं हो. इसके लिए फिरोजाबाद के हार्ट विशेषज्ञ ने कुछ बातों का ध्यान रखने के लिए टिप्स दिए हैं.

फिरोजाबाद के हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. मनोज कुमार ने बताया कि अग्निवीर में भर्ती होने के लिए जो नवयुवक तैयारी करते हैं वैसे तो शारीरिक रूप से फिट होते है लेकिन कभी-कभी फास्ट फूड या ज्यादा ऑयली खाने से अंदर ही अंदर बीमारी जन्म ले लेती है. वहीं कुछ युवाओं में बचपन में भी कभी कोई बीमारी रही है तो वह फिर से बाहर आ सकती है. ऐसे में खुद को फिट रखना बहुत जरूरी है.

क्या है कॉन्जेनिटल हार्ट डिजीज?
डॉ. मनोज कुमार ने बताया कि कुछ युवाओं में कॉन्जेनिटल हार्ट डिजीज होता तो कुछ में वाल्व की प्रॉब्लम होती है. आसाना भाषा में समझें तो जन्म के दौरान जब बच्चे का दिल सामान्य से अलग होता है, तो उसे कॉन्जेनिटल हार्ट डिजीज कहा जाता है. हालांकि, इस बीमारी के लक्षण सामान्य तौर पर बड़े होने पर ही दिखाई देते हैं. ऐसे बच्चे अपना बहुत ख्याल रखें और धीरे-धीरे तैयारी करते हुए अग्निवीर के लिए अप्लाई करें. अग्निवीर की भर्ती में एक साथ बहुत बच्चे दौड़ते हैं तो आगे निकलने की होड़ में उनमें तनाव आ जाता है. ऐसे में उनकी पुरानी बीमारी उभार मार जाती है.

अपनी बॉडी के तापमान को रखें नियंत्रित
डॉ. मनोज कुमार ने बताया कि कि अग्निवीर भर्ती में युवा भीड़ के साथ दौड़ते हैं. ऐसे में उन पर अधिक तनाव होता है और शरीर की पुरानी बीमारी उभार मार जाती है जिससे हार्ट अटैक जैसी बीमारी बन जाती है. अग्निवीर की तैयारी करने वाले युवा अपने बॉडी तापमान को नियंत्रित रखें और एक फ्रूट्स का सेवन करें. इसके अलावा पानी भी अधिक मात्रा में पीना चाहिए.

इन बातों का रखें विशेष ध्यान
1. दौड़ने से पहले वॉर्म-अप करें, जिससे दौडते वक्त किसी तरह की इंजुरी होने की संभावना न रहे. 10-15 मिनट की वॉक से ही बॉडी एक्टिव हो जाती है.
2. दौड़ने के लिए छोटे-छोटे कदम सही रहते हैं. पहले दिन से ही ज्यादा स्पीड में दौड़ना सही नहीं हैं.
3. छोटे-छोटे लक्ष्य बनाएं. जैसे, पहले दिन तीन से पांच मिनट ही दौडें. इस नियम को एक हफ्ते तक जारी रखें. अगले सप्ताह 7 मिनट, फिर 10 मिनट मतलब धीरे-धीरे ही रनिंग टाइम बढाएं
4.दौड़ते हुए मुंह बंद रखें, नाक से सांस लें. मुंह खुलने से गला सूखेगा और थकान जल्दी महसूस होगी.
दौड़ते हुए कभी बीच में पानी न पिएं, कोई भी सॉफ्ट या एनर्जी ड्रिंक्स न लें.
5. स्टेमिना बढ़ाने के लिए गलती से भी भर्ती परीक्षा के दबाव में कोई इंजेक्शन या कोई दवा नहीं लें.

Tags: Firozabad News, Health News, Life18, Local18, Uttar Pradesh News Hindi

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स