Kota News: एक और कोचिंग छात्रा ने किया सुसाइड, जहर खाकर दी जान, पुलिस प्रशासन में मचा हड़कंप

Gypsy News

Gypsy News

हाइलाइट्स

कोटा में थम नहीं रहा सुसाइड का सिलसिला
एक और कोचिंग स्टूडेंट ने जहर खाकर दी जान
यूपी की रहने वाली छात्रा NEET की तैयारी कर रही थी

कोटा. कोचिंग सिटी कोटा से एक और दुखभरी खबर सामने आई है. एक के बाद एक कोचिंग स्टूडेंट्स के सुसाइड का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा. सोमवार को एक और कोचिंग छात्रा ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली. सुसाइड करने वाली छात्रा उत्तरप्रदेश के मऊ की रहने वाली थी और विज्ञाननगर स्थित एक हॉस्टल में रहकर NEET की कोचिंग कर रही थी. छात्रा को कोचिंग के बाहर उल्टियां करता देख वहां पर मौजूद अन्य छात्रों ने इसकी सूचना कोचिंग संचालक को दी. उसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया.

तलवंडी के एक निजी अस्पताल में इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया. शुरुआती जांच में पता चला कि छात्रा ने कोचिंग जाने से पहले ही जहर खा लिया था जिसके बाद उसकी तबीयत बिगड़ने लगी थी. घटना की सूचना मिलते ही विज्ञाननगर थाना पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मृतका के शव को मेडिकल कॉलेज की मोर्चरी में रखवाया. पोस्टमार्टम के बाद ही आत्महत्या के कारणों का पता चल सकेगा. फिलहाल पुलिस इस पूरे मामले की जांच में जुटी है.

9 महीने में 2 दर्जन से ज्यादा स्टूडेंट्स ने की सुसाइड
कोटा में प्रशासन द्वारा किए जा रहे तमाम प्रयासों के बावजूद आत्महत्या के मामले कम नहीं हो रहे हैं. पिछले 9 माह में रिकॉर्ड 26 कोचिंग छात्र-छात्रा मौत को गले लगा चुके हैं. पिछले हफ्ते झारखंड से मेडिकल की तैयारी करने आई 16 साल की एक छात्रा ने फांसी के फंदे से झूलकर आत्महत्या कर ली थी. वहीं 27 अगस्त को एक ही दिन में 2 कोचिंग छात्रों की आत्महत्या ने सभी को हिलाकर रख दिया था. कोटा में बढ़ते सुसाइड के मामलों की चर्चा पूरे देश में हो रही है.

शासन- प्रशासन की कोशिशें हुई नाकाम
कोटा में कोचिंग स्टूडेंट्स द्वारा की जा रही आत्महत्या की घटनाओं को रोकने के लिए राज्य सरकार, पुलिस और कोचिंग संचालकों द्वारा की जा रहीं तमाम कोशिशें नाकाम साबित हो रहीं हैं. सुसाइड की घटनाओं को रोकने के लिए पुलिस- प्रशासन के अलावा हॉस्टल संचालक और टिफिन संचालकों की मदद भी ली जा रही है. हाल ही में जारी गाइडलाइन के मुताबिक हॉस्टल के कमरों में एंटी हैंगिंग डिवाइस भी लगाई जा रही हैं. इसके अलावा पढ़ाई के का प्रेशर कम करने के लिए छात्रों लगातार संवाद करने पर जोर दिया जा रहा है.

Tags: Kota news, Rajasthan news, Suicide Case

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स