टैक्‍स सेविंग एफडी माने दोनों हाथों में लड्डू, मिलेगा जबरदस्‍त रिटर्न, टैक्‍स बचेगा सो अलग

Gypsy News

Gypsy News

हाइलाइट्स

टैक्‍स सेविंग एफडी का लॉक-इन पीरियड पांच साल है.
इसमें लगाए पैसे पर टैक्‍स छूट मिलती है.
ब्‍याज पर इनकम टैक्‍स देना होता है.

नई दिल्‍ली. अगर आप किसी ऐसे निवेश विकल्‍प की तलाश में जिसमें आपको रिटर्न भी अच्‍छा मिले और टैक्‍स की बचत भी हो तो टैक्‍स सेविंग फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट (Tax Saving FD) समझो आपके लिए ही बनी है. टैक्‍स सेवर एफडी में लगाए पैसे पर आप आयकर अधिनियम की धारा 80सी के तहत सालाना 1.5 लाख रुपये तक का टैक्स बेनिफिट ले सकते हैं. इस समय इस एफडी पर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया और पीएनबी 6.50 फीसदी तो एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और ऐक्सिस बैंक 7 फीसदी सालाना ब्‍याज ऑफर कर रहे हैं.

हां, यहां इस बात का ध्‍यान जरूर रखना चाहिए कि इस टैक्स सेविंग ऑप्शन का लाभ उन्‍हीं लोगों को मिलेगा जो पुरानी कर व्यवस्था का विकल्प चुनकर आरटीआर फाइल करेंगे. नई कर व्‍यवस्‍था चुनने वालों को टैक्‍स सेविंग एफडी में निवेश पर टैक्‍स छूट नहीं मिलेगी. टैक्‍स सेविंग एफडी में लगाया पैसा पूरी तरह सुरक्षित रहता है और आपको गारंटिड रिटर्न मिलता है.

ये भी पढ़ें- यह है देश का इनकम टैक्‍स फ्री राज्‍य, सालाना करोड़ों रुपये कमाने वाले को भी नहीं देना पड़ता एक रुपया टैक्‍स

5 साल है लॉक-इन पीरियड
टैक्‍स सेविंग एफडी का लॉक-इन पीरियड पांच साल का है. इसका मतलब है कि आप पांच साल से पहले इसमें लगाई गई रकम निकलवा नहीं सकते. 5 साल से पहले अगर आप एफडी तुड़वाते हैं तो इस पर बैंक तो आपसे पेनल्‍टी वसूलता ही है, साथ ही आपको टैक्‍स बेनिफिट भी नहीं मिलता है. इस स्थिति में आप जिस साल एफडी तुड़वाते हैं, उस साल की वो पूरी रकम आपकी आय में जोड़ दी जाएगी, जिस पर आपने इनकम टैक्स छूट का लाभ लिया है.इसमें ओवरड्राफ्ट की सुविधा नहीं मिलती. FD होल्डर की मृत्यु होने की स्थिति में नॉमिनी को मैच्योरिटी से पहले पैसे निकालने की छूट है.

टैक्स सेविंग FD पर कोई टैक्स नहीं लगता है. लेकिन, अगर निवेश किए गए पैसे पर साल में 40 हजार रुपए से ज्यादा ब्याज मिला है तो टैक्स चुकाना होगा. सीनियर सिटिजन के मामले में छूट की सीमा 50 हजार रुपए तक है. मैच्योरिटी पर बैंक TDS काटकर ही बाकी का भुगतान करेगा.

टैक्‍सेबल नहीं है आय तो भरना होगा फॉर्म 15एच
यह एफडी टीडीएस रूल के अधीन है. इस जमा पर अर्जित ब्याज टैक्सेबल है. हालाँकि, यदि आपकी आय टैक्सेबल नहीं है, तो आप फॉर्म 15H/15G जमा कर सकते हैं और बैंक आपके ब्याज पर टीडीएस नहीं काटेगा. नाबालिग भी टैक्स सेविंग एफडी में पैसा लगा सकते हैं.

Tags: Bank FD, Business news in hindi, FD Rates, Money Making Tips, Tax saving options

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स