क्या है ई सिम, ये कैसे उपयोग में लाया जाता है, क्या ये भविष्य का सिम है

Gypsy News

Gypsy News

e-SIM Card: एंबेडेड सब्‍सक्राइबर आइडेंटिटी मॉड्यूल यानी ई-सिम आजकल काफी चर्चा में है. दरअसल, कुछ समय पहले ऐपल ने अपने आईफोन-14 और आईफोन-14 प्रो मॉडल में फिजिकल सिम के बजाय ग्राहकों को केवल ई-सिम का विकल्‍प उपलब्‍ध कराया था. हालांकि, ई-सिम वाला आईफोन मॉडल केवल अमेरिका में ही उपलब्‍ध है. अब भारत में भी कई कंपनियां ई-सिम की सुविधा दे रही हैं. माना जा रहा है कि भविष्‍य में ज्‍यादातर स्मार्टफोन यूजर्स ई-सिम का ही इस्‍तेमाल करना शुरू कर देंगे. कहा जा रहा है कि भारत में ई-सिम की सुविधा देने वाली कंपनियां ग्राहकों को फिजिकल सिम का विकल्‍प भी उपलब्‍ध कराएंगी.

ई-सिम मोबाइल फोन, स्मार्टवाच, टैबलेट में इस्‍तेमाल होने वाला वर्चुअल सिम कार्ड है. यह फिजिकल सिम से बिल्कुल अलग होता है. ई-सिम का विकल्‍प चुनने पर आपको फोन में कोई कार्ड नहीं डालना होगा. टेलीकाम कंपनी ई-सिम को ओवर-द-एयर चालू कर देती है. बता दें कि आपको ई-सिम में भी फिजिकल सिम कार्ड के सभी फीचर्स उपलब्‍ध होते हैं. मोबाइल निर्माता कंपनी हैंडसेट बनाने के दौरान ई-सिम भी बनाती हैं. ई-सिम हार्डवेयर में ही होने के कारण फोन में स्पेस बच जाता है. वहीं, फोन में सिम के लिए अलग से ट्रे भी नहीं बनानी पड़ती है. ई-सिम भी 4जी, 5जी नेटवर्क को सपोर्ट करता है. भारत में टेलीकॉम कंपनी जियो, एयरटेल और वोडाफोन-आइडिया ई-सिम की सुविधा उपलब्‍ध करा रही हैं.

ये भी पढ़ें – Ganeshotsav Special: देशभर में गणेशोत्‍सव की धूम, गजानन के भव्‍य स्‍वरूप से सीखें मैनेजमेंट के फंडे

ई-सिम से आपको क्‍या मिलेंगे फायदे?
ई-सिम यूजर्स को टेलीकॉम ऑपरेटर बदलने पर सिम कार्ड बदलने की जरूरत नहीं पड़ती है. लिहाजा, मोबाइल नेटवर्क स्विच आसान हो जाता है. एक ई-सिम पर एक बार में ज्‍यादा से ज्‍यादा पांच वर्चुअल सिम कार्ड स्टोर किए जा सकते हैं. आसान भाषा में कहें तो अगर किसी नेटवर्क पर पूरे सिग्‍नल नहीं मिल रहे हैं तो आप तत्‍काल नेटवर्क बदल सकते हैं. यात्रा के दौरान नेटवर्क स्विच करना आसान रहता है. सिम कार्ड ट्रे खत्म होने से निर्माता को बैटरी का साइज बढ़ाने की छूट मिलती है. भारत में इस समय ई-सिम सपोर्ट करने वाले कई स्मार्टफोन उपलब्ध हैं. इनमें ऐपल, सैमसंग, गूगल, मोटोरोला के स्मार्टफोन शामिल हैं.

What is e-SIM, How does e-SIM works, is e-SIM the SIM of future, e-SIM vs physical SIM, Tech news in Hindi, Knowledge News in Hindi, Benefits of e-SIM, what phones use eSIMs, How do you activate your eSIM, what can eSIM do

ई-सिम यूजर्स को टेलीकॉम ऑपरेटर बदलने पर सिम कार्ड बदलने की जरूरत नहीं पड़ती है.

क्‍या ई-सिम का कोई नुकसान भी है?
फिजिकल सिम का इस्‍तेमाल करने पर अगर आपका फोन खराब हो जाए तो आप आसानी से कार्ड निकालकर दूसरे फोन में डालकर इस्‍तेमाल कर सकते हैं. ई-सिम में ये सुविधा नहीं मिलती है. चूंकि ई-सिम मोबाइल के हार्डवेयर में शामिल होती है. इसलिए आप इसे फोन से हटा नहीं सकते हैं. हालांकि, क्लाउड स्‍पेस में डाटा स्‍टोर होने पर आप आसानी से सबकुछ दूसरे फोन में ट्रांसफर कर सकते हैं. अगर आप अपनी ऑनलाइन एटिविटीज को ट्रैक किए जाने को लेकर चिंतित हैं, तो ई-सिम आपके लिए परेशानी पैदा कर सकती है.

ये भी पढ़ें – हर दूतावास में एक खुफिया अधिकारी क्यों होता है, क्‍या होता है इनका काम?

CDMA फोन में नहीं होता सिम कार्ड
कोड डिवीजन मल्टीपल एक्सेस फोन यानी सीडीएमए फोन में भी फिजिकल सिम कार्ड का इस्‍तेमाल नहीं होता है. सीडीएमए डाटा ट्रांसमिशन के लिए स्प्रेड स्पेक्ट्रम टेक्‍नोलॉजी का इस्‍तेमाल करता है. सीडीएमए में यूजर्स और अकाउंट की पूरी जानकारी डिवाइस की इंटरनल मेमोरी में स्‍टोर होती है. अगर आपके मोबाइल फोन में फिजिकल सिम कार्ड डालना पड़ता है तो ये ग्लोबल सिस्टम मोबाइल यानी जीएसएम फोन है. वहीं, अगर फोन में फिजिकल सिम कार्ड नहीं डालना होता है तो ये सीडीएमए फोन है.

ये भी पढ़ें – Ganesh Chaturthi Special: जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा… किसने लिखी थी गणेश जी की आरती

क्या eSIM के लिए वाईफाई नेटवर्क जरूरी
अगर आपके मोबाइल हेंडसेट में ई-सिम की सुविधा है तो आपको इसे एक्टिवेट करने के लिए वाईफाई या सेल्युलर कनेक्शन की जरूरत होगी. अगर आप केवल ई-सिम वाला आईफोन-14 या आईफोन-14 प्रो मॉडल है और आपके पास वाईफाई नेटवर्क नहीं है, तो भी ऐपल का ई-सिम एक्टिवेट किया जा सकता है. यह आपको बिना वाईफाई के अपना नया ई-सिम सेटअप करने की अनुमति देता है. इसके लिए आपको कोई भुगतान भी नहीं करना पड़ता है.

What is e-SIM, How does e-SIM works, is e-SIM the SIM of future, e-SIM vs physical SIM, Tech news in Hindi, Knowledge News in Hindi, Benefits of e-SIM, what phones use eSIMs, How do you activate your eSIM, what can eSIM do

एक ई-सिम पर एक बार में ज्‍यादा से ज्‍यादा पांच वर्चुअल सिम कार्ड स्टोर किए जा सकते हैं.

फिजिकल सिम से कितना सुरक्षित है ई-सिम
मौजूदा दौर में स्‍मार्टफोन यूजर्स के लिए सुरक्षा पहले से कहीं ज्‍यादा महत्वपूर्ण हो गई है. फिजिकल सिम कार्ड की तरह ई-सिम इंटरनेट से जुड़ने का सबसे सुरक्षित और निजी तरीका उपलब्‍ध कराता है. सेल्‍युलर नेटवर्क पर सुरक्षा मानक सार्वजनिक वाई-फाई नेटवर्क के मुकाबले बहुत ज्‍यादा हैं, जो आप हवाई अड्डों, होटलों या कैफे में पा सकते हैं. इसके अलावा 3जी और 4जी कनेक्टिविटी हैकर्स के लिए डाटा चोरी को असंभव बना देती है.

ये भी पढ़ें – Women’s Reservation Bill: महिला आरक्षण विधेयक कब से होगा लागू, कब रिजर्वेशन हो जाएगा खत्‍म?

आपके लिए कौन-सा सिम है ज्‍यादा फायदेमंद
ई-सिम या फिजिकल सिम में आपके लिए फायदेमंद कार्ड आपकी व्‍यक्तिगत जरूरतों और पसंद पर निर्भर करता है. अगर आप छोटा, सुरक्षित और सुविधाजनक सिम कार्ड ढूंढ रहे हैं तो ई-सिम आपके लिए बेहतर विकल्प है. वहीं, अगर आप हर जगह आसानी से मिलने और कम खर्च वाला सिम कार्ड ढूंढ रहे हैं तो फिजिकल सिम बेहतर रहेगा. एक ई-सिम कार्ड एक हैंडसेट में ही स्‍टोर होता है. अगर आपको फोन चोरी होने या खोने का जोखिम ज्‍यादा रहता है तो आप अपने ई-सिम कार्ड का बैकअप बना सकते हैं. इससे आपको डेटा को दूसरे फोन में ट्रांसफर करने में आसानी रहेगी.

ये भी पढ़ें – Lowest Death Rate: दुनिया में वो कौन सा देश है, जहां मृत्यु दर सबसे कम है, भारत की क्‍या है स्थिति?

कौन-से हैंडसेट पर ई-सिम है उपलब्‍ध
अब ज्‍यादातर बड़े मोबाइल निर्माता अपने ग्राहकों को ई-सिम की सुविधा दे रहे हैं. हालांकि, टेक्‍नोलॉजी काफी नई होने और लोगों के इसके प्रति कम जागरूक होने के कारण कंपनियां ये सुविधा अपने सभी मॉडल्‍स पर उपलब्‍ध नहीं करा रही हैं. ऐपल आईफोन एक्‍सएस समेत कई आईफोन मॉडल्‍स में ये सुविधा दे रही है. वहीं, गूगल पिक्‍सल, मोटोरोला रेजर 5जी और सैमसंग गैलेक्‍स के कुछ मॉडल्‍स में ई-सिम कार्ड एनेबल होता है.

Tags: Smartphone, Tech News in hindi

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स