बढ़ी हुई शुगर का बज जाएगा बैंड, बस दिन में इस समय कर लें यह खास काम, गजब का दिखेगा असर

Gypsy News

Gypsy News

हाइलाइट्स

जो लोग सुबह से लेकर दोपहर तक घर के कामों में ज्यादा व्यस्त थे उनमें डायबिटीज की खतरा कम था.
सुबह और दोपहर में फिजिकल एक्टिविटी डायबिटीज के खतरे को कम करती है.

Morning Exercise Lower Risk of Diabetes: डायबिटीज में भारत की स्थिति बहुत ही खस्ताहाल है. मद्रास डायबेट्स रिसर्च फाउंडेशन और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने हाल में एक रिपोर्ट प्रकाशित किया है जो बेहद चौंकाने वाली है. इस रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 10.1 करोड़ लोग डायबिटीज से पीड़ित हैं जबकि 13.6 करोड़ लोग प्री-डायबेटिक हैं. इसका मतलब यह हुआ है कि हर सौ में करीब 9 लोगों को डायबिटीज हैं और इससे कहीं ज्यादा को आगामी कुछ सालों में डायबिटीज होने वाला है. इतना ही नहीं रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि भारत की अधिकांश जनसंख्या किसी न किसी तरह के मेटोबोलिक डिसॉर्डर के शिकार हैं. मेटाबोलिक डिसॉर्डर में डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, पेट के पास चर्बी और हाई कोलेस्ट्रॉल शामिल है. हैरानी की बात यह है कि इन सभी मेटाबोलिक डिसॉर्डर के लिए खराब लाइफस्टाइल और गलत खान-पान जिम्मेदार है. इसलिए ग्लोबल डायबेट्स कम्युनिटी ने एक रिसर्च के आधार पर बताया कि डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए किस समय फिजिकल एक्टिविटी की सबसे अधिक जरूरत होती है.

नियमित रूप से फिजिकल एक्टिविटी जरूरी

नई स्टडी में पाया गया है कि एक्सरसाइज करने की टाइमिंग और टाइप 2 डायबिटीज के जोखिम को कम करने के बीच सीधा संबंध है. स्टडी के रिजल्ट में यह पाया गया है कि अगर आप सुबह और दोपहर में फिजिकल एक्टिविटी नियमित रूप से करते हैं तो टाइप 2 डायबिटीज का खतरा बहुत कम हो जाएगा. इससे पहले भी एक अध्ययन में पाया गया था कि दोपहर में एक्सरसाइज करने से कम उम्र में मौत की आशंका टल जाती है. हार्वर्ड मेडिकल स्कूल की टीम ने इस स्टडी को अंजाम दिया है. इसमें 93 हजार लोगों का डाटा जुटाया गया है और इनमें डायबिटीज और एक्सरसाइज करने के समय के बीच संबंधों को खंगाला गयाहै. इन लोगों की औसत आयु 62 वर्ष थी.

कठिन मेहनत नहीं लगातार मेहनत की जरूरत

अध्ययन में पाया गया कि जो लोग सुबह से लेकर दोपहर तक घर के कामों में ज्यादा व्यस्त थे या बहुत कठिन एक्सरसाइज करते थे, उनलोगों में शाम को एक्सरसाइज करने वालों की तुलना में डायबिटीज कम हुआ. इन लोगों में 10 प्रतिशत तक डायबिटीज का खतरा कम पाया गया. स्टडी का लब्बोलुआब यह था कि कठिन एक्सरसाइज से डायबिटीज के खतरे को टाला जा सकता है और जिसे डाइबिटीज है, उसमें ब्लड शुगर को कंट्रोल किया जा सकता है. अध्ययन के एक लेखक ने बताया कि दूसरे शब्दों में कहें तो जिन लोगों ने बेशक कम मेहनत वाली एक्सरसाइज की लेकिन बहुत जल्दी-जल्दी की, उनलोगों में डायबिटीज का खतरा बहुत कम था. यानी सिर्फ एक बार कठिन मेहनत कर लिए तो इससे खतरा कम नहीं होता बल्कि लगातार एक्सरसाइज की जरूरत होती है और इसका सही समय सुबह से दोपहर के बीच है.

इसे भी पढ़ें-दिमाग को हिलाकर रख देती है विटामिन बी 12 की कमी, नसें भी होने लगती है लुंज-पुंज, 7 लक्षणों से बिगड़ जाएगा मामला

इसे भी पढ़ें-माथा-पच्ची छोड़िए, सिर्फ इस एक फल का कीजिए सेवन, हमेशा के लिए क्लीन बोल्ड हो जाएगा हाई कोलेस्ट्रॉल

Tags: Health, Health tips, Lifestyle, Trending news

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स