एम्‍स सहित दिल्ली के इन बड़े अस्पतालों में कैसे लेते हैं ऑनलाइन अपॉइंटमेंट, जान लें पूरा प्रोसेस

Gypsy News

Gypsy News

हाइलाइट्स

दिल्‍ली ही नहीं देश के बड़े अस्‍पतालों में घर बैठे ऑनलाइन अपॉइंटमेंट बुक की जा सकती है.
भारत सरकार की ओर से इसके लिए एक पोर्टल ओआरएस बनाया गया है.

Online OPD registration in Aiims: राजधानी दिल्‍ली में एम्‍स या अन्‍य किसी भी बड़े सरकारी अस्‍पताल की ओपीडी में इलाज कराना चाहते हैं तो अस्‍पताल में आकर मेनुअली लाइन में लगकर अपॉइंटमेंट लेने के बजाय ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन एक बेहतर विकल्‍प है. ऑनलाइन अपॉइंटमेंट लेने के बाद अस्‍पताल पहुंचकर आसानी से ओपीडी कार्ड बनाया जा सकता है लेकिन क्‍या आपको मालूम है कि दिल्‍ली के ऑल इंडिया इंस्‍टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज ही नहीं बल्कि कई बड़े सरकारी अस्‍पतालों में भी ऑनलाइन अपॉइंटमेंट सिर्फ एक ही पोर्टल से ली जा सकती है.

दिल्‍ली में देश के टॉप अस्‍पतालों की पूरी चेन है. यहां ऑल इंडिया इंस्‍टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज से लेकर कई बड़े और नामी सरकारी अस्‍पताल मौजूद हैं, जिनमें इलाज के लिए देशभर से मरीज लाखों की संख्‍या में दिल्‍ली पहुंचते हैं. आपको बता दें कि ज्‍यादातर अस्‍पतालों में ऑनलाइन अपॉइंटमेंट की सुविधा चालू है. हालांकि दिल्‍ली सरकार के अस्‍पतालों में ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन के लिए अलग सुविधा है. आज आपको बताते हैं दिल्‍ली में स्‍वायत्‍त, एडेड या केंद्र सरकार के अस्‍पतालों में ली जा सकती है ऑनलाइन अपॉइंटमेंट और क्‍या है पूरा प्रोसस….

ये भी पढ़ें- आर्थराइटिस में रामबाण है योग, एम्स की स्‍टडी में खुलासा, जानें कौन सी योग क्रियाएं हैं फायदेमंद

एम्‍स, आरएमएल और सफदरजंग अस्‍पताल सहित कई बड़े अस्‍पतालों में ऑनलाइन अपॉइंटमेंट के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन सिस्‍टम (ORS Portal) बनाया गया है. जिस पर करीब दो दर्जन अस्पतालों की ओपीडी और दिल्‍ली में मौजूद डिस्‍पेंसरीज में इलाज के लिए रजिस्‍ट्रेशन करा सकते हैं.

इन अस्‍पतालों में ले सकते हैं ऑनलाइन अपॉइंटमेंट

. अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान (एम्‍स) दिल्‍ली
. सफदरजंग अस्‍पताल और सफदरजंग अस्‍पताल सुपरस्‍पेशलिटभ्‍ ब्‍लॉक एसएसबी
. ऑल इंडिया इंस्‍टीट्यूट ऑफ आयुर्वेदा
. दिल्‍ली स्‍टेट कैंसर इंस्‍टीट्यूट दिलशाद गार्डन और जनकपुरी
. डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्‍पताल
. इंस्‍टीट्यूट ऑफ ह्यूमन बिहेवियर एंड अलाइड साइंसेज
. कलावती सरन चिल्‍ड्रंस अस्‍पताल
. लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज और सुचेता कृपलानी अस्‍पताल
. मौलाना आजाद इंस्‍टीट्यूट ऑफ डेंटल साइंस
. नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ ट्यूबरक्‍यूलोसिस एंड रेस्पिरेटरी डिजीज
. वल्‍लभ भाई पटेल चेस्‍ट इंस्‍टीट्यूट

इन डिस्‍पेंसरी और पॉलीक्‍लीनिक्‍स में भी करा सकते हैं रजिस्‍ट्रेशन
. एनडीएमसी आयुष पॉलिक्‍लीनिक मंदिर मार्ग
. एनडीएमसी बाबर रोड मेडिकल सेंटर एंड डिस्‍पेंसरी
. एनडीएमसी बापू धाम डिस्‍पेंसरी
. एनडीएमसी चरक पालिका अस्‍पताल मोती बाग
. एनडीएमसी गोल्‍फ लिंक डिस्‍पेंसरी
. एनडीएमसी लोधी रोड डिस्‍पेंसरी
. एनडीएमसी नेताजी नगर डिस्‍पेंसरी
. एनडीएमसी पालिका हेल्‍थ कॉम्‍पलेक्‍स चाणक्‍यपुरी
. एनडीएमसी पालिका मेटरनिटी अस्‍पताल लोधी कॉलोनी
. एनडीएमसी पॉलिक्‍लीनिक शहीद भगत सिंह मार्ग
. एनडीएमसी रोहिणी डिस्‍पेंसरी
. एनडीएमसी सरोजिनी नगर डिस्‍पेंसरी ए

पांच पॉइंट में समझें अपॉइंटमेंट का प्रोसेस

. सबसे पहले अपने फोन या लैपटॉप पर ओआरएस पोर्टल यानि ऑनलाइन रजिट्रेशन सिस्‍टम की लिंक https://ors.gov.in/orsportal/ओपन करें. इसे ओपन करते ही अस्‍पताल या राज्‍य को चुनने का विकल्‍प आएगा. मान लीजिए आप एम्‍स‍ दिल्‍ली चुनते हैं.

. इसके बाद आपसे पूछा जाएगा कि आपको डॉक्‍टर से फिजिकली कंसल्‍ट करना है या टेलीकंसल्‍टेशन के लिए अपॉइंटमेंट लेनी है. मान लीजिए आप फिजिकल कंसल्‍टेशन चुनते हैं. इसके बाद न्‍यू अपॉइंटमेंट या फॉलोअप अपॉइंटमेंट का विकल्‍प आएगा. मान लीजिए आप नए पेशेंट हैं तो न्‍यू अपॉइंटमेंट चुनते हैं.

. इसके बाद आपको अस्‍पताल में विभाग चुनना होगा. आपको किस बीमारी के इलाज के लिए जाना है. मान लीजिए आपको पेट या गैस्‍ट्रो संबंधी कोई परेशानी है तो आप मेन ओपीडी राजकुमारी अमृत कौर ओपीडी चुनते हैं और फिर गैस्‍ट्रोएंट्रोलॉजी विभाग चुनते हैं.

. इसे चुनने के बाद तारीख का विकल्‍प आएगा, साथ ही एक मैसेज भी आएगा कि आपको ओपीडी के दौरान रेफरल दस्‍तावेज लाने होंगे. उसके बाद कौन सी तारीख में अपॉइंटमेंट मिल सकती है, आप उसे चुन सकते हैं और अपॉइंटमेंट का स्‍टेटस डाउनलोड कर सकते हैं.

. ऑनलाइन अपॉइंटमेंट लेने के बाद आप अस्‍पताल में जाकर इसके आधार पर अपना ओपीडी कार्ड बनवा सकते हैं और डॉक्‍टर को दिखा सकते हैं.

अपॉइंटमेंट विंडो की जान लें ये बात
एम्‍स के मीडिया डिविजन की इंचार्ज प्रो. रीमा दादा कहती हैं कि ओआरएस पोर्टल से अगर नए पेशेंट अपॉइंटमेंट लेते हैं तो सिर्फ एक महीने तक ही अपॉइंटमेंट डेट उपलब्‍धता दिखाएगा. वहीं अगर फॉलो अप की डेट लेनी है तो यह 3 महीने तक वेकेंट या नॉन वेकेंट दिखाएगा.

ये है ऑनलाइन अपॉइंटमेंट का फायदा
ऑनलाइन अपॉइंटमेंट का सबसे बड़ा फायदा यह है कि मरीज अपनी सुविधानुसार किसी भी तारीख के लिए घर बैठे अपॉइंटमेंट बुक करा सकते हैं. इसके लिए अस्‍पताल में विजिट नहीं करना पड़ता. जिनके पास ऑनलाइन अपॉइंटमेंट नहीं होती, उन्‍हें अस्‍पताल में आकर स्लिप लेनी पड़ती है, जो कई बार नहीं मिल पाती. ऐसे में अगर ऑनलाइन अपॉइंटमेंट है तो कार्ड बनवाने में परेशानी नहीं होती.

ये भी पढ़ें- एम्‍स में कौन से मरीज ले सकते हैं प्राइवेट वॉर्ड, निजी अस्‍पतालों से बेहद कम हैं चार्जेस, जान लें तरीका

Tags: Health, Lifestyle, Trending news

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स