जड़ी-बूटियों की क्वीन है यह हर्ब्स, फर्टिलिटी और इम्यूनिटी दोनों में लाती है नई जान, महिला -पुरुष दोनों के लिए रामबाण

Gypsy News

Gypsy News

हाइलाइट्स

शतावरी खाने से प्रीमैन्सट्रूअल सिंडोम यानी पीएमस का लक्षण कम हो जाता है.
यह पीरियड्स में ब्लड फ्लो को संतुलित कर उसे नियमित करती है.

Benefits of Shatavari for Woman: आयुर्वेद में कई ऐसी औषधियां हैं जिनसे महिलाओं में प्रजनन स्वास्थ्य का बेहतर किया जा सकता है लेकिन शतावरी का जवाब नहीं. शतावरी महिलाओं के लिए आयुर्वेद की क्वीन या रानी है. शतावरी महिलाओं के लिए सबसे बेस्ट हर्ब्स मानी जाती है. आयुर्वेद के मुताबिक शतावरी महिलाओं में इम्यूनिटी को बूस्ट करती है जिससे कई बीमारियां पास भी नहीं फटकती. वहीं यह नई बनी मां में दूध के प्रोडक्शन को बढ़ाती है और मेन्सट्रूअल फ्लो को नियंत्रित करने में मदद करती है. इतना ही नहीं, शतावरी महिलाओं में पीरियड्स से पहले पीएमएस के लक्षण को कम करती है और मेनोपॉज के बाद महिलाओं में हॉट फ्लैशेज के जोखिम से बचाती है. महिलाओं के लिए इतना फायदेमंद होने के कारण यदि आप सोच रहे हैं कि इससे पुरुषों को कोई फायदा नहीं है तो आप गलत है. दरअसल, पुरुषों के प्रजनन स्वास्थ्य के लिए भी शतावरी बेस्ट ऑप्शन है.

100 जड़ों वाली औषधि

इंडियन एक्सप्रेस की खबर में आयुर्वेदिक डॉक्टर दीक्षा भवसार कहती हैं कि शतावरी इतनी पावरफुल औषधि है कि इसे 100 जड़ों की औषधि कहा जाता है. यह महिला और पुरुषों दोनों के लिए बेहद फायदेमंद है. उन्होंने कहा कि शतावरी महिलाओं की सच्ची सहेली है. शतावरी महिलाओं के प्रजनन अंगों को शुद्ध कर उसे पोषित करती है. शतावरी महिलाओं के पूरे जीवन काल के हार्मोन को संतुलित करने में फायदेमंद है. इसलिए शतावरी को नारायणी भी कहा जाता है. शतावरी टेस्ट तीखा लेकिन खाने में थोड़ा मीठी होती है. शतावरी की तासीर ठंडी होती है जो शरीर और मन में वात्त और पित्त दोष को सुधारती है. इसलिए इसे एक रिप्रोडक्टिव टॉनिक के रूप में भी जाना जाता है.

शतावरी के फायदे

1.महिलाओं के प्रजनन स्वास्थ्य-शतावरी खाने से प्रीमैन्सट्रूअल सिंडोम यानी पीएमस का लक्षण कम हो जाता है. यह पीरियड्स में ब्लड फ्लो को संतुलित कर उसे नियमित करती है. शतावरी महिलाओं में फर्टिलिटी को बूस्ट करती है और दूध का प्रोडक्शन बढ़ाती है. शतावरी दूध के प्रोडक्शन के साथ-साथ दूध में पोषक तत्वों को भी बढ़ा देती है जिससे शिशु को भी फायदा होता है. यह हॉट फ्लैश, मूड स्विंग और मेनोपोज से पहले होने वाली परेशानियों को कम करती है. यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन जैसी समस्याओं से मुक्ति दिलाने में भी शतावरी मदद करती है.

2. डाइजेशन और मूड – शतावरी शरीर में एंडोर्फिन, सेरोटोनिन और डोपामाइन को रिलीज करती है. ये सभी हैप्पी हार्मोंस हैं. इनसे तनाव, चिंता और डिप्रेशन नहीं होता. शतावरी के सेवन से सुकून की नींद आती है. शतावरी को गट क्लीन्ज़र भी कहते हैं. यह आंतों को डिटॉक्सीफाई करती है और शरीर के पाचन एंजाइम्स की एक्टिविटी को बढ़ाती है. शतावरी को दूध में मिलाकर पीया जाता है.

पुरुषों के लिए फायदे

डॉ. दीक्षा भवसार के मुताबिक शतावरी पुरुषों के प्रजनन स्वास्थ्य के लिए भी बहुत फायदेमंद होती है. शतावरी पुरुषों में स्पर्म और सीमेन क्वालिटी और गुणवत्ता दोनों को बढ़ाती है. जब भी कोई कपल फर्टिलिटी की शिकायत लेकर आय़ुर्वेदिक डॉक्टर के पास आते हैं तो सबसे पहले दोनों को शतावरी लेने की सलाह देते हैं.

इसे भी पढ़ें-दिमाग को हिलाकर रख देती है विटामिन बी 12 की कमी, नसें भी होने लगती है लुंज-पुंज, 7 लक्षणों से बिगड़ जाएगा मामला

इसे भी पढ़ें-माथा-पच्ची छोड़िए, सिर्फ इस एक फल का कीजिए सेवन, हमेशा के लिए क्लीन बोल्ड हो जाएगा हाई कोलेस्ट्रॉल

Tags: Health, Health tips, Lifestyle, Trending news, Woman

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स