क्या शुगर के मरीजों को अलग तरह के जूते पहनने चाहिए? डॉक्टर ने बताई चौंकाने वाली बात, गलती पड़ सकती है महंगी

Gypsy News

Gypsy News

हाइलाइट्स

अनकंट्रोल ब्लड शुगर के मरीजों को डायबिटिक फुट का खतरा ज्यादा होता है.
डायबिटिक फुट के मरीजों को पैरों का खास खयाल रखने की जरूरत होती है.

How Do Diabetics Choose Their Shoes: डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है, जिसे वक्त रहते कंट्रोल न किया जाए, तो शरीर के कई अंगों को डैमेज कर सकती है. डायबिटीज के मरीजों का शुगर लेवल कंट्रोल न हो, तो इससे पैरों की नर्व पर काफी असर पड़ता है और डायबिटिक फुट की कंडीशन पैदा हो जाती है. डायबिटिक फुट के मरीजों का शुगर लेवल कंट्रोल न हो पाए, तो पैर काटने की नौबत आ जाती है. कई बार ऐसा करते वक्त मरीजों की मौत भी हो जाती है. डायबिटिक फुट से बचने के लिए सभी मरीजों को हर संभव कोशिश करनी चाहिए. कई लोग मानते हैं कि शुगर के मरीजों को स्पेशल जूते पहनने चाहिए, ताकि डायबिटिक फुट से बचा जा सके. इस बारे में हकीकत डॉक्टर से जान लेते हैं.

ग्रेटर नोएडा के फोर्टिस हॉस्पिटल में कंसल्टेंट फिजीशियन डॉ. प्रमिला आर बैथा के मुताबिक डायबिटीज एक गंभीर समस्या है, जिसे कंट्रोल करना बेहद जरूरी होता है. शुगर की बीमारी आनुवांशिक कारणों के अलावा अत्यधिक मोटापा, गतिहीन जीवनशैली और गलत खान-पान की वजह से भी हो सकती है. अगर किसी व्यक्ति को डायबिटीज की बीमारी हो जाए, तो उसे हमेशा अपना ब्लड शुगर कंट्रोल करने की कोशिश करनी चाहिए. शुगर लेवल अनकंट्रोल होने से लोगों का हार्ट, किडनी और नर्व डैमेज हो सकती हैं. जब किसी शख्स की नर्व डायबिटीज की वजह से डैमेज होने लगती हैं, तो उसे अपने पैरों में सेंसेशन महसूस नहीं होती है. अगर उसके पैर में चोट लग जाए, तो यह महसूस नहीं होती है. ठंडा-गर्म महसूस होना कम हो जाता है. इस कंडीशन में पैर में घाव बन जाता है. इसे डायबिटिक फुट कहा जाता है.

डायबिटिक फुट बन सकता है पैर काटने की वजह

डॉ. प्रमिला बैथा की मानें तो डायबिटिक फुट का घाव ठीक होने में काफी लंबा वक्त लगता है. डायबिटिक फुट को ड्रेसिंग और एंटीबायोटिक की मदद से कंट्रोल किया जा सकता है. हालांकि कई बार यह अत्यधिक ब्लड शुगर की वजह से कंट्रोल नहीं हो पाता और मरीजों के पैर के प्रभावित हिस्से को काटना पड़ता है. इस दौरान लोगों की मौत का खतरा भी होता है. ऐसे में डायबिटिक फुट से बचने की कोशिश करनी चाहिए. अनकंट्रोल शुगर के मरीजों को डायबिटिक फुट का खतरा ज्यादा होता है. डाइट कंट्रोल, वॉक, मेडिसिन से डायबिटिक फुट को काफी हद तक कंट्रोल किया जा सकता है. अत्यधिक ब्लड शुगर सिर्फ पैर ही नहीं, बल्कि हार्ट अटैक, स्ट्रोक और आंखों की डिजीज की वजह बन सकती है.

यह भी पढ़ें- How Much Sleep Do You Need: हर दिन कितने घंटे सोना जरूरी? उम्र के हिसाब से अलग-अलग है गणित, यहां चेक करें पूरा चार्ट

शुगर के मरीजों के लिए कैसे जूते फायदेमंद?

डॉक्टर की मानें तो शुगर के मरीजों को सॉफ्ट और प्रोटेक्टिव जूते पहनने चाहिए. जिन मरीजों को डायबिटिक फुट हो या जिन्हें इसका खतरा हो, वे डॉक्टर से मिलकर जूतों के बारे में कंसल्ट कर सकते हैं. अगर आप अच्छी क्वालिटी के सॉफ्ट जूते पहनेंगे, तो इससे आपके पैरों को आराम मिलेगा और किसी भी तरह की चोट से बचाव हो सकेगा. इसे लेकर लापरवाही बरतना महंगा पड़ सकता है. प्रीडायबिटीज के मरीजों और डायबिटीज की फैमिली हिस्ट्री वाले लोगों को हर तीन महीने में डायबिटीज की स्क्रीनिंग करानी चाहिए और डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए. स्वस्थ लोगों को हर साल स्क्रीनिंग करानी चाहिए.

यह भी पढ़ें- हाई कोलेस्ट्रॉल का खात्मा कर देगी 10 रुपये किलो की सब्जी, रोज पिएं एक गिलास जूस, दवा से ज्यादा करेगा असर

Tags: Blood Sugar, Diabetes, Health, Lifestyle, Trending news

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स