इस हरी पत्ती के हैं लाखों फायदे, डायबिटीज-त्वचा रोग समेत कई बीमारियों के इलाज में रामबाण

Gypsy News

Gypsy News

अर्पित बड़कुल/दमोह. बुंदेलखंड के दमोह जिले के अधिकांश घरों में मीठी नीम औषधि पौधा पाया जाता है. इसका उपयोग घर की रसोई से लेकर स्वास्थ्य सम्बंधी कई बीमारियों से छुटकारा पाने के लिए किया जाता है. इसकी ताजी पत्तियों में एक अलग ही खुशबू होती है जो खाने के स्वाद को तो बढ़ाती ही है, साथ ही सेहत को भी कई लाभ पहुंचाती है. मीठी नीम औषधीय गुणों से भरपूर होती है मीठी नीम को कई लोग ‘करी पत्ता’ के नाम से भी जानते हैं.

हर रोज 6 से 7 कच्चे करी पत्तों को खाली पेट एक ग्लास पानी के साथ चबाने से आपकी सेहत को बहुत सारे लाभ मिलते हैं. इस पत्ते के पानी को उबालकर पीने से दिल की बीमारी से भी बचाव होता है. साथ ही बदहजमी, डीएसटी, उल्टी, पेट दर्द, डायबिटीज आदि समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए इसका सेवन किया जाता है.

कई गंभीर बीमारी में लाभदायक
आयुर्वेद चिकित्सा डॉ. दीप्ति नामदेव ने बताया कि इस औषधि पौधे का उपयोग कई आयुर्वेदिक दवाओं में होता है. सबसे बड़ी बात है कि हमारे घर में यह औषधि पौधा होने के बावजूद हम इसका सेवन नहीं करते. इसका नित्य दिन सेवन करने के दिल की बीमारी से बचा जा सकता है. बालों को झड़ने से रोका जा सकता है. बॉडी के वजन को कम करता है. इसके अलावा मूत्र रोग, दाद-खाज-खुजली, त्वचा रोग, बुखार, कीड़े मकोड़े के काटने पर भी इसका उपयोग किया जाता है. एक तरीके से मीठी नीम का सेवन स्वास्थ्य के लिए तो लाभकारी है. यह अन्य समस्याओं से भी छुटकारा दिलाने वाला औषधीय पौधा है, जो गुणकारी भी है.

Tags: Damoh News, Health News, Latest hindi news, Local18, Mp news

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स