अखबार पर रखकर कभी न खाएं खाना, इस जानलेवा बीमारी का हो सकते हैं शिकार, FSSAI ने दी चेतावनी, तुरंत बदलें आदत

Gypsy News

Gypsy News

हाइलाइट्स

अखबार और एलुमिनियम फॉइल में खाना पैक करना सेहत के लिए नुकसानदायक है.
खाने को हमेशा स्टेनलेस स्टील या कांच के बर्तनों में पैक करना सुरक्षित रहता है.

Side Effects of Eating Foods on Newspaper: खाने-पीने की चीजों को पैक करने के लिए अखबार का इस्तेमाल करना आम बात है. बाजार में खड़े होकर जंक फूड्स खाने के लिए भी अक्सर न्यूजपेपर या कागजों का इस्तेमाल किया जाता है. ऐसा कभी न कभी आपने भी किया होगा. हालांकि अखबार पर खाना रखकर खाने से आप कैंसर समेत कई गंभीर बीमारियों का शिकार हो सकते हैं. इसे लेकर फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया (FSSAI) ने हाल ही में निर्देश जारी किया है, जिसमें खाने को परोसने, पैक करने और स्टोर करने के लिए अखबार के उपयोग से जुड़े स्वास्थ्य खतरों पर चिंता जताई है. एफएसएसएआई ने सभी लोगों और फूड वेंडर्स से खाने के लिए अखबार का इस्तेमाल न करने की सलाह दी है. आज आपको बताएंगे कि अखबार पर खाना रखकर खाने और पैक करने से सेहत को कौन से बड़े खतरे हो सकते हैं.

FSSAI के अनुसार अखबारों में इस्तेमाल होने वाली स्याही (Ink) में कई खतरनाक केमिकल्स होते हैं, जो शरीर में पहुंचकर कई गंभीर खतरे पैदा कर सकते हैं. लंबे समय तक खाने-पीने के लिए अखबार का इस्तेमाल करने से कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी का खतरा भी बढ़ जाता है. तेल में तली-भुनी चीजों को अखबार पर रखने से स्याही के केमिकल्स खाने पर चिपक जाते हैं और खाने के साथ शरीर के अंदर चले जाते हैं, इससे पाचन तंत्र की समस्याएं हो सकती है. अखबार में लपेटने से खाने की क्वालिटी खराब हो जाती है और ऐसा खाना हमारे इम्यून सिस्टम को कमजोर कर सकता है. लंबे समय तक खाने-पीने की चीजों में अखबार का इस्तेमाल करने से आपके शरीर के कई महत्वपूर्ण अंग डैमेज हो सकते हैं.

FSSAI के सीईओ जी. कमलावर्धन राव के मुताबिक अखबार को पब्लिश करने के दौरान इस्तेमाल की जाने वाली स्याही में सीसा और भारी धातुओं सहित कई केमिकल्स होते हैं, जो खाने को कंटामिनेटेड बना सकते हैं. अखबारों को बांटने के दौरान विभिन्न पर्यावरणीय परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है, जिससे अखबार बैक्टीरिया, वायरस या अन्य रोगजनकों के संपर्क में आ सकते हैं, जो इसके जरिए लोगों के खाने में पहुंच सकते हैं. इससे खाद्य जनित बीमारियां हो सकती हैं. इन बातों को लंबे समय तक नजरअंदात करने से समय के साथ गंभीर स्वास्थ्य जोखिम पैदा हो सकते हैं.

यह भी पढ़ें- कम उम्र में बढ़ रहा हार्ट अटैक का खतरा, अपनाएं डॉक्टर के बताए 5 टिप्स, कभी नहीं बनेंगे दिल के मरीज

तमाम लोगों को लगता है कि अखबार के बजाय एलुमिनियम फॉयल में खाना रखना सुरक्षित होता है, लेकिन यह भी गलत धारणा है. फॉयल का इस्तेमाल करना भी सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है. खाने को फॉइल में पैक करने से यह ऑक्सीजन को भोजन में जाने से नहीं रोक पाता है और खाने के अंदर बैक्टीरिया पनपने लगते हैं, जो खाने को जल्द ही खराब कर सकता है. ऐसे में अखबार और एलुमिनियम फॉइल दोनों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. FSSAI की मानें तो खाने को वायरस और बैक्टीरिया से बचाए रखने के लिए स्टेनलेस स्टील, सूखी पत्तियों या कांच के बर्तन में परोसने और पैक करने की सलाह दी जाती है. ये चीजें खाने को स्टोर करने के लिए भी सुरक्षित मानी जाती हैं.

यह भी पढ़ें- कमजोर इम्यूनिटी वाले हो जाएं सावधान ! अगले कुछ सप्ताह रहेंगे मुश्किल भरे, जरूर करें 5 काम, वरना पड़ जाएंगे बीमार

Tags: Health, Lifestyle, Trending news

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स