क्या पहाड़ों में ठंड के कारण ज्यादा गाढ़ा हो जाता है ब्लड, जानें नैनीताल के एक्सपर्ट की राय

Gypsy News

Gypsy News

तनुज पाण्डे/ नैनीताल. उत्तराखंड के नैनीताल में सर्दी का सितम शुरू हो गया है. न्यूनतम तापमान 2 से 3 डिग्री तक पहुंच गया है. एक ततफ़ जहां लोग ठांस से परेशान है वहीं नैनीताल में बढ़ती ठंड से खून गाढ़ा होने के मामले सामने आ रहे हैं. बीडी पांडे अस्पताल के हृदय रोग की ओपीडी में हर रोज दर्जनों मरीज पहुंच रहे हैं. दिल के मरीजों के लिए ठंड जानलेवा साबित हो रही है. अस्पताल की इमरजेंसी में खून को पतला करने की दवाइयां मरीजों को दी जा रही हैं . आंकड़ों के अनुसार अब तक दर्जनों मरीजों की जान बचाई जा चुकी है. अस्पताल के कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. सुधांशु सिंह से जानेंगे कि नैनीताल के निवासी और यहां आने वाले टूरिस्ट को इस मौसम में किन बातों का ध्यान रखना चाहिए.

डॉ. सुधांशु सिंह ने बताया कि नैनीताल में सर्दी के मौसम में अमूमन यह समस्या देखी जाती है. नैनीताल में ठंड लगातार बढ़ रही है. ऐसे में शरीर में नसों की इलास्टिसिटी कम हो रही है, जब ठंड बढ़ती है तो हमारा खून गाढ़ा हो जाता है, जिससे थक्के जम सकते हैं. थक्का जमने से समस्याएं हो सकती हैं और यही एक कारण है कि ठंड में हमें अधिक दिल के दौरे और स्ट्रोक देखने को मिलते हैं. इससे पूरे शरीर का ब्लड सर्कुलेशन प्रभावित रहता है और दिल पर खून को पंप करने का प्रेशर बढ़ता है जिससे हाई बीपी की समस्या बढ़ती हैं . इस वजह से कई बार सीने में तेज दर्द महसूस होता है और सांस लेने में भी तकलीफ होती है, . डॉ सिंह बताते हैं कि अगर इस समस्या को नजरअंदाज किया गया, तो भविष्य में हार्ट अटैक जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है.

क्या है खून गाढ़ा होने की वजह?
डॉ. सुधांशु सिंह ने बताया कि खून गाढ़ा होने की समस्या ठंड के अलावा हाई एल्टीट्यूड, धूम्रपान, मोटापा आदि की वजह से होती है. ऐसे में अगर आप ठंड में सुबह शाम एक्सरसाइज कर रहे हैं, तो यह भी आपके लिए घातक सिद्ध हो सकता है.

कैसे करें बचाव?
डॉ. सुधांशु सिंह ने बताया कि खून गाढ़ा होने जैसी समस्या से बचाव के लिए कुछ घरेलू उपाय जरूरी हैं, जैसे- एक्सरसाइज सूर्योदय के बाद करें, खुद को ठंड से बचाएं, सिगरेट और शराब का सेवन न करें, एक फिट दिनचर्या अपनाएं, स्ट्रेस से बचें, बीमारी को मेंटली न बनाएं.

Disclaimer: इस खबर में दी गई दवा/औषधि और हेल्थ बेनिफिट रेसिपी की सलाह, हमारे एक्सपर्ट्स से की गई चर्चा के आधार पर है. यह सामान्य जानकारी है न कि व्यक्तिगत सलाह. हर व्यक्ति की आवश्यकताएं अलग हैं, इसलिए डॉक्टर्स से परामर्श के बाद ही कोई चीज उपयोग करें. कृपया ध्यान दें, Local 18 की टीम किसी भी उपयोग से होने वाले नुकसान के लिए जिम्मेदार नहीं होगी.

Tags: Health News, Life18, Local18, Nainital news, Uttarakhand news

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स