first aid for women: वर्किंग गर्ल्‍स! ऑफिस के फर्स्‍ट एड बॉक्‍स में आज ही रखवा लो ये 5 चीजें, कभी भी पड़ सकती है जरूरत

Gypsy News

Gypsy News

हाइलाइट्स

हर ऑफिस में फर्स्‍ट एड बॉक्‍स होता है, लेकिन क्‍या आपको मालूम है इसमें क्‍या होना चाहिए?
महिलाओं के लिए पेटदर्द-सिरदर्द की गोली नहीं, बल्कि ये 5 चीजें इस किट में जरूर होनी चाहिए.

First Aid box tips for women : ऑफिस वाली लड़कियो! दर्द और परेशानी हमेशा आपके साथ चलती है, इससे पहले कि दर्द से कराहो, ऑफिस छोड़कर अस्‍पताल भागो या वापस घर लौटकर घर जाओ और दवाएं खाओ, बेहतर है कि अपने ऑफिस के फर्स्‍ट एड बॉक्‍स में एक बार सबसे पहले आज ही झांक लो. उसमें देख लो कि आपके लिए जरूरी मेडिसिन उसमें हैं या नहीं. अगर उसमें ये 5 चीजें नहीं हैं, तो चाहे जैसे भी हो, ऑफिस के फर्स्‍ट एड बॉक्‍स को आज ही अपडेट कराने की सिफारिश भेज दो..

दिल्‍ली के फॉर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्‍टीट्यूट में ऑब्‍स्‍टेट्रिक्‍स और गायनेकोलॉजी विभाग की डायरेक्‍टर और हेड डॉ. सुनीता मित्‍तल ने ऑफिस में काम करने वाली लड़कियों के लिए सलाह दी है कि दफ्तरों या फैक्ट्रियों में इनके लिए फर्स्‍ट एड किट में ये 5 चीजें जरूर होनी ही चाहिए.

1. सैनिटरी पैड

सेनिटरी पैड की जरूरत लड़कियों को पीरियड्स में हर महीने पड़ती है.

सेनिटरी पैड की जरूरत लड़कियों को पीरियड्स में हर महीने पड़ती है.

सेनिटरी पैड की जरूरत लड़कियों को पीरियड्स में हर महीने पड़ती है. यह हर ऑफिस के फर्स्‍ट एड बॉक्‍स में उपलब्‍ध होना चाहिए. अगर कहीं सैनिटरी नैपकिन की वेंडिंग मशीनें लगी हैं तो बहुत ही अच्‍छा है.

2. पीरियड में तेज दर्द के लिए दवाएं

बहुत सारी लड़कियों को पीरियड्स में तीखा दर्द होता है, क्रैंप्स आते हैं. कई लड़कियां दर्द में बेहोश तक हो जाती हैं.

बहुत सारी लड़कियों को पीरियड्स में तीखा दर्द होता है, क्रैंप्स आते हैं. कई लड़कियां दर्द में बेहोश तक हो जाती हैं.

बहुत सारी लड़कियों को पीरियड्स में तीखा दर्द होता है, क्रैंप्स आते हैं. कई लड़कियां दर्द में बेहोश तक हो जाती हैं, इसलिए ऑफिस की फर्स्‍ट एड किट में मेफिनेमिक एसिड या एंटीस्‍पासमॉडिक टेबलेट जरूर रखें.

3. पीरियड में हैवी ब्‍लीडिंग के लिए टैबलेट

कुछ लड़कियों को पीरियड्स में हैवी ब्‍लड फ्लो या हैवी ब्‍लीडिंग होती है. इसके लिए तुरंत ये गोली दी जा सकती है.

कुछ लड़कियों को पीरियड्स में हैवी ब्‍लड फ्लो या हैवी ब्‍लीडिंग होती है. इसके लिए तुरंत ये गोली दी जा सकती है.

ट्रिनेक्सिमिक एसिड (Tranaxamic Acid) की 500 एमजी वाली कोई भी मेडिसिन इस किट में रखना बेहद जरूरी है क्‍योंकि कुछ लड़कियों को पीरियड्स में हैवी ब्‍लड फ्लो या हैवी ब्‍लीडिंग होती है. इसके लिए तुरंत ये गोली दी जा सकती है.

4. मॉर्निंग सिकनेस या नॉजिया के लिए

लड़कियां प्रेग्‍नेंट भी होती हैं, ऐसे में नॉजिया या वोमिटिंग की समस्‍या हो सकती है.

लड़कियां प्रेग्‍नेंट भी होती हैं, ऐसे में नॉजिया या वोमिटिंग की समस्‍या हो सकती है.

लड़कियां प्रेग्‍नेंट भी होती हैं, ऐसे में नॉजिया या वोमिटिंग की समस्‍या हो सकती है. इसके अलावा कुछ लड़कियों को मॉर्निंग सिकनेस की परेशानी होती है, इसके लिए एनसेट टेबलेट रख लें.

5. सेफ्टी पिन

लड़कियों के लिए सेफ्टी पिन जरूर इस बॉक्‍स में रखनी चाहिए.

लड़कियों के लिए सेफ्टी पिन जरूर इस बॉक्‍स में रखनी चाहिए.

डॉ. सुनीता कहती हैं कि लड़कियों के लिए सेफ्टी पिन जरूर इस बॉक्‍स में रखनी चाहिए. कई बार ऐसी जरूरत पड़ती है कि सेफ्टी पिन नहीं मिल पाती.

डॉ. सुनीता आगे कहती हैं कि पेट दर्द-सरदर्द के अलावा एसिडिटी की गोलियां, ईनो आदि चीजें तो महिला हो या पुरुष स्‍टाफ सभी के लिए फर्स्‍ट एड बॉक्‍स में रखनी ही चाहिए लेकिन महिलाओं को चूंकि हर महीने ऐसी परेशानियों से गुजरना पड़ता है, जिसमें दवाओं की सख्‍त जरूरत पड़ती है. इसलिए महिलाओं को लेकर दफ्तरों में खासतौर पर सावधानी बरतनी चाहिए.

Tags: Health News, Trending news

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स