ठंड में नवजात बच्चों को रोज नहलाना हो सकता है घातक! डॉक्टर ने कही ये बड़ी बात

Gypsy News

Gypsy News

शाश्वत सिंह/झांसीः तापमान लगातार गिरता जा रहा है और ठंड बढ़ती जा रही है. इस भीषण ठंड से हर कोई परेशान है. युवा और बुजुर्ग तो इस ठंड में परेशान हैं ही लेकिन, क्या आपने सोचा है कि इस मौसम में नवजात शिशुओं की क्या स्थिति होती होगी. ठंड का मौसम नवजात शिशुओं के लिए बेहद नाजुक होता है.

इस मौसम में बच्चों का ख्याल कैसे रखें यह जानने के लिए लोकल 18 ने बाल रोग विशेषज्ञ डॉ ओम शंकर चौरसिया से बात की. डॉ. चौरसिया ने बताया कि नवजात शिशु को ठंड सबसे पहले सिर के रास्ते लगती है. इसलिए नवजात शिशुओं का सर हमेशा ढक कर रखें. सिर को हमेशा ठंड से बचा कर रखें. इसके साथ ही बच्चे को तीन से चार लेयर कपड़ा पहना कर रखें.

बच्चे को गीला ना होने दें
इस बात का खास ध्यान रखें कि बच्चा गीला ना रहे. बच्चे के पेशाब पर विशेष ध्यान दें. बच्चा पेशाब करे तो तुरंत कपड़ा बदल दें. अगर बच्चा बहुत देर तक गीला रहा तो सेहत खराब हो सकती है. इस वजह से संक्रमण भी हो सकता है.

बच्चे को रोज ना नहलाएं
कुछ लोगों को अपने नवजात बच्चों को रोज नहलाने की आदत होती है. लेकिन, ऐसा करना सही नहीं होता है. बच्चों को 3 से 4 दिन में एक बार नहलाएं. बाकी दिनों में बच्चों को स्पॉन्ज बाथ दे सकते हैं.

ब्लोअर का ध्यान से करें इस्तेमाल
बच्चों को गर्म रखने के लिए घर में ब्लोअर का इस्तेमाल कर सकते हैं. लेकिन, इस बात का ध्यान रखें कि ब्लोअर रात भर ना चलाएं. रात भर ब्लोअर चलने से कमरे में ऑक्सिजन की मात्रा कम हो जाती है. इसके साथ ही कमरे में मॉइश्चर की भी कमी हो जाती है. ब्लोअर के बगल में पानी से भरा एक बर्तन भी जरुर रखें.

बच्चे को छाती से लगाकर रखें
जिन इलाकों में अभी भी बिजली नहीं पहुंची है वहां मां अपने बच्चे को छाती से लगाकर और आंचल से ढककर रखें. इसे कंगारू केयर कहते हैं. इससे बच्चे का शरीर गर्म रहेगा.

Tags: Child Care, Health, Local18

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स