मोदी सरकार की ये 4 पेंशन योजनाएं, आपके बुढ़ापे को बनाएंगी सुरक्षित, जानें सबकुछ

Gypsy News

Gypsy News

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार द्वारा देश के युवाओं व महिलाओं को सशक्त बनाने के साथ-साथ लोगों के भविष्य को भी सुरक्षित करने के लिए तमाम तरह की योजनाएं चलाई जा रही हैं. मोदी सरकार ने पिछले 9 वर्षों में अब तक कई ऐसी पेंशन योजनाएं लॉन्च की हैं, जिसके जरिए लोगों का बुढ़ापा सुरक्षित रहे. केंद्र सरकार कर्म योगी मानधन योजना, प्रधानमंत्री वय वंदना योजना, अटल पेंशन योजना और प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना आइए विस्तार रूप से इन योजनाओं के बारे में जानते हैं…

प्रधानमंत्री कर्म योगी मानधन योजना
प्रधानमंत्री कर्म योगी मानधन योजना की शुरुआत केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा की गई थी. इस योजना के अंतर्गत देश के छोटे दुकानदार, कारोबारी व व्यापारी जो जीएसटी के अंतर्गत पंजीकृत हैं और जिनका वार्षिक टर्नओवर 1.5 करोड़ तक का है उनको इस योजना के अंतर्गत लाभार्थी के तौर पर स्वीकृत किया जाएगा.

इस योजना के लिए आवेदन करने वाले छोटे कारोबारियों तथा व्यापारियों की उम्र 18 से 40 वर्ष होनी चाहिए. तथा लाभार्थी को 60 साल की उम्र के बाद 3000 की धनराशि पेंशन के रूप में हर महीने दी जाएगी. इसके लिए 18 वर्ष के उम्र वाले को न्यूनतम 55 रुपये का प्रीमियम हर महीने देना होगा तथा 40 वर्ष की उम्र वालों को अधिकतम 200 रुपये का प्रीमियम हर महीने देना होगा. इस योजना के अंतर्गत पेंशन के तौर पर मिलने वाली धनराशि सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में पहुंचाई जाएगी.

प्रधानमंत्री वय वंदना योजना
प्रधानमंत्री वय वंदना योजना की शुरुआत 4 मई 2017 को भारत सरकार द्वारा देश के वरिष्ठ नागरिकों के लिए की गई. यह एक पेंशन स्कीम है. इस योजना के अंतर्गत 60 साल या उससे अधिक वर्ष के सीनियर सिटिजन मासिक पेंशन का विकल्प चुनते हैं तो उन्हें 10 वर्षों तक 8 फीसदी ब्याज मिलेगा. अगर वह वार्षिक पेंशन विकल्प चुनते हैं तो उन्हें 10 वर्षों के लिए 8.3 फीसदी का ब्याज मिलेगा. इस योजना के तहत निवेश करने की अधिकतम सीमा पहले साढ़े सात लाख थी, जिसे अब बढ़ा कर 15 लाख रुपये कर दिया गया है.

अटल पेंशन योजना
साल 2015 में 1 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अटल पेंशन योजना को आरंभ किया गया था. इस योजना के माध्यम से 60 वर्ष की आयु पूरी होने के बाद पेंशन प्रदान की जाती है. इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए लाभार्थी को 18 वर्ष से 40 वर्ष की आयु के बीच निवेश करना होता है. लाभार्थियों को इस योजना के माध्यम से 1000 रुपये से लेकर 5000 रुपये की मासिक पेंशन प्रदान की जाती है. असामयिक मृत्यु की दशा में लाभार्थी के परिवार को इस योजना का लाभ प्रदान किया जाता है.अगर कोई लाभार्थी 18 वर्ष की आयु में इस योजना से जुड़ना चाहता है तो उन्हे 210 रूपये का प्रीमियम हर महीने देना होगा तथा जिनकी आयु 40 वर्ष है तो उन्हें 297 से लेकर 1 ,454 रूपये तक का प्रीमियम देना होगा.

प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना
प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना) भारत में सरकार समर्थित जीवन बीमा योजना है. इसका उल्लेख मूल रूप से फरवरी 2015 में तत्कालीन वित्त मंत्री स्वर्गीय अरुण जेटली द्वारा वर्ष 2015 के बजट भाषण में किया गया था. इसे औपचारिक रूप से प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 9 मई को कोलकाता में लॉन्च किया था।[2] मई 2015 तक, भारत की केवल 20% आबादी के पास किसी भी प्रकार का बीमा है, इस योजना का लक्ष्य इस संख्या को बढ़ाना है.

मोदी सरकार की ये 4 पेंशन योजनाएं, आपके बुढ़ापे को बनाएंगी सुरक्षित, जानें सबकुछ

प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना 18 से 50 वर्ष की आयु के बैंक खातों वाले लोगों के लिए उपलब्ध है. इसका वार्षिक प्रीमियम 436 रुपये है. प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना पर जीएसटी से छूट दी गई है. राशि हर साल 31 मई को या उससे पहले खाते से स्वचालित रूप से डेबिट कर दी जाएगी. जिस अवधि के लिए बीमा कवर किया गया है वह 12 महीने है यानी 1 जून से 31 मई तक. जो लोग ऑटो डेबिट सुविधा के लिए पंजीकरण करते हैं, उनका 55 वर्ष तक ऑटो नवीनीकरण होगा.

Tags: Narendra modi, PM Modi

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स