गूगल सर्च और 1 हजार CCTV से मिला सुराग, 25 करोड़ का सोना चोरी करने वाले शातिर तक कैसे पहुंची दिल्ली पुलिस

Gypsy News

Gypsy News

नई दिल्ली. नई दिल्ली पुलिस ने ज्वैलरी शोरूम से करोड़ों के सोने के जेवरात उड़ाने वाले शातिर चोरों को पकड़ लिया है. इसमें चोरी के मास्टर माइंड लोकेश श्रीवास को गूगल सर्च की मदद से पकड़ा गया. यह शातिर चोर कई दिनों से बड़ी वारदातें करने के बाद पुलिस की आंखों में धूल झोंक रहा था. चोरी में शामिल 3 लोगों की गिरफ्तारी हुई है. दिल्ली में ज्वेलरी शोरूम से 25 करोड़ की चोरी के मामले में पुलिस ने छत्तीसगढ़ से इन्हें पकड़ा है. शातिर चोर लोकेश समेत तीनों अभी छत्तीसगढ़ पुलिस की कस्टडी में है और दिल्ली पुलिस उसे दिल्ली लाने का प्रयास कर रही है.

इस शातिर चोर को पकड़ने के लिए पुलिस ने 1 हजार से अधिक सीसीटीवी फुटेज खंगाले. उसके चेहरे को गूगल सर्च पर डालकर उसकी डिटेल हासिल की और उस पर शिकंजा कस दिया. यह दिल्ली के भोगल में चोरी का मास्टरमाइंड है, जिसका मन बड़ी से बड़ी चोरी की वारदातों के बाद भी नही भरता था. वह हर बड़ी चोरी को चैलेंज की तरह लेता था और हमेशा बड़े ज्वैलरी शोरूम को ही टारगेट करता था.

इस शोरूम से उड़ाए थे करोड़ों के गहने
दिल्ली के जंगपुरा में रविवार को एक ज्वेलर्स शोरूम से 25 करोड़ की चोरी हुई थी. यह शोरूम उमराव सिंह और महावीर प्रसाद जैन का है. चोरों ने दुकान में रखी 20 से 25 करोड़ रुपये के हीरे और सोने की ज्वेलरी पर हाथ साफ कर दिया था. चोर छत काटकर शोरूम में घुसे थे.

लोकेश श्रीवास था ज्वैलरी चोरी का मास्टरमाइंड
कुछ समय पहले छत्तीसगढ़ की सिकंदरा बाद की एक बड़ी चोरी हुई तो दुर्ग पुलिस ने एक चोर को पकड़ा था. इसका नाम लोकेश राव था. जिससे हुई पूछताछ में उसने अपने एक साथी का नाम लोकेश श्रीवास बताया था, जो उसी की तरह वारदात को अंजाम देता था. गुरुवार 28 सितंबर की सुबह के समय में दिल्ली पुलिस को उसने लोकेश श्रीवास की जानकारी दी और दिल्ली में बड़ी वारदात करने की जानकारी दी. इस पर दिल्ली पुलिस अलर्ट हो गई.

गूगल सर्च से मिले चोर के अहम सुराग
पुलिस के पास चोर की फोटो नहीं थी इसलिए पुलिस ने लोकेश को गूगल सर्च किया. इसमें पुलिस को लोकेश की फोटो मिल गई. फोटो मिलने के बाद पुलिस ने उसे सीसीटीवी फुटेज से मिलाया और पुलिस को बड़ी लीड मिल गई. गूगल में फोटो सर्च करने के बाद उसका नंबर हासिल किया गया, जिसके बाद उसका मोबाइल नंबर पता लगाकर उसकी लोकेशन भी दिल्ली के अलग अलग इलाकों में पाई गई.

पुलिस ने 1 हजार से ज्यादा सीसीटीवी खंगाले
कुछ सीसीटीवी फुटेज देखे गए तो उसकी शक्ल मिल गई. वह एक बिल्डिंग में 24 की रात को घुसा था और 25 को शाम को निकला है, जिसके बाद फुटेजों को ट्रैक किया गया. 1 हजार सीसीटीवी फुटेज से ज्यादा की पड़ताल के बाद इसकी पुख्ता जानकारी मिल गई. जिस बस को बुक किया गया दिल्ली पुलिस को उसकी जानकारी भी मिली है. वो कश्मीरी गेट बस अड्डे से बस का टिकट लेता दिखाई दिया. दिल्ली पुलिस की टीम रायपुर के लिए निकल गई है.

छापेमारी के बाद हुई गिरफ्तारी
उसी दौरान भिलाई में एक मुकदमे के आरोपी के घर पुलिस ने छापेमारी की, जिसमें शिवा नाम का व्यक्ति पकड़ा गया. शिवा ने बताया कि एक घर स्मृति नगर में एक घर किराए का है जहां भिलाई पुलिस पहुंच गई और उसी जगह 11 बजे दिल्ली पुलिस भी वहीं पहुंच गई. दुर्ग पुलिस और दिल्ली पुलिस ने 29 को सुबह लोकेश को भी पकड़ने में सफलता हासिल कर ली. फिलहाल छत्तीसगढ़ पुलिस ने इसे गिरफ्तार कर लिया है.इस मामले में 3 लोगों की गिरफ्तारी हुई है. दिल्ली पुलिस लोकेश को अपनी कस्टडी में लेने के लिए कानूनी कार्रवाई में जुट गई है.

लोकेश बड़ा ही शातिर है जो प्रोफेशनल ज्वेलर्स को ही टारगेट करता था. उस मार्केट की सबसे बड़ी दुकान का इसने निशाना बनाया था. दिल्ली पुलिस को पता था कि 30 किलो गोल्ड को चोरी करने के बाद उसे बेचना या काफी समय तक संभालना आसान नहीं है.

Tags: Delhi police, New Delhi news

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स