जयशंकर और ब्लिंकन के बीच IECC EC को लेकर हुई खास बातचीत, कनाडा के साथ उठे राजनयिक व‍िवाद को लेकर चर्चा नहीं

Gypsy News

Gypsy News

हाइलाइट्स

दोनों देशों ने कनाडा में खाल‍िस्‍तान को लेकर क‍िसी प्रकार की कोई बातचीत नहीं की
दोनों नेताओं ने भारत की जी20 अध्यक्षता के प्रमुख परिणामों सहित कई मुद्दों पर व‍िशेष चर्चा की
भारत-अमेरि‍का के बीच द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने के तौर-तरीकों पर चर्चा की गई

वॉशिंगटनः विदेश मंत्री एस. जयशंकर (S Jaishankar) और उनके अमेर‍िकी समकक्ष एंटनी ब्लिंकन (Antony Blinken) के बीच वॉश‍िंगटन (Washington) में खास मुलाकात हुई. दोनों देशों के व‍िदेश मंत्र‍ियों के बीच गुरुवार को हुई यह मुलाकात बेहद खास मानी जा रही है. दोनों नेताओं ने भारत की जी20 अध्यक्षता के प्रमुख परिणामों सहित कई मुद्दों पर व‍िशेष चर्चा की है. खासकर भारत-मध्य पूर्व-यूरोप आर्थिक कॉर‍िडोर (India-Middle East-Europe Economic Corridor) और उच्च-मानक बुनियादी ढांचा निवेश उत्पन्न करने की क्षमता को लेकर चर्चा की गई है. भारत-अमेरि‍का के बीच द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने के तौर-तरीकों पर चर्चा की गई. हालां‍क‍ि दोनों देशों में कनाडा (Canada) में खाल‍िस्‍तान को लेकर उठे राजनय‍िक व‍िवाद पर क‍िसी प्रकार की कोई बातचीत नहीं हुई है.

प‍िछले द‍िनों भारत में जी20 शिखर सम्मेलन के दौरान भारत, अमेरिका, संयुक्त अरब अमीरात, सऊदी अरब, फ्रांस, जर्मनी, इटली और यूरोपीय संघ ने भारत-मध्य पूर्व-यूरोप आर्थिक गलियारे (IECC EC) की स्थापना के लिए एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए थे. सूत्र बताते हैं क‍ि गलियारा एशिया, पश्चिम एशिया, मध्य पूर्व और यूरोप के बीच बढ़ी हुई कनेक्टिविटी और आर्थिक एकीकरण के माध्यम से आर्थिक विकास को प्रोत्साहित करने के साथ तेजी प्रदान करेगा. इन दोनों नेताओं की मुलाकात आगामी 2+2 वार्ता से पहले खास मानी जा रही है. यह 2+2 वार्ता विशेष तौर से रक्षा, अंतरिक्ष और स्वच्छ ऊर्जा के क्षेत्रों में सहयोग के निरंतर महत्व पर बल देने को लेकर आयोज‍ित होगी.

ये भी पढ़ें- ‘कनाडा विवाद पर हमारा रुख साफ…’ विदेश मंत्री एस जयशंकर और एंथनी ब्लिंकन की मुलाकात से पहले बोला US

बताया जाता है क‍ि भारत में जी20 शिखर सम्मेलन के दौरान हस्‍ताक्षर‍ क‍िए गए एमओयू में भारत-मध्य पूर्व-यूरोप आर्थिक गलियारे में दो अलग-अलग गलियारे होंगे, पूर्वी गलियारा भारत को पश्चिम एशिया/मध्य पूर्व से जोड़ेगा तो नॉर्थ कॉर‍िडोर पश्चिम एशिया/मध्य पूर्व को यूरोप से जोड़ने का काम करेगा.

इसमें एक रेल लाइन शामिल होगी, जो पूरा होने पर, दक्षिण पूर्व एशिया के बीच भारत के माध्यम से पश्चिम एशिया/मध्य पूर्व यूरोप तक वस्तुओं और सेवाओं के ट्रांसशिपमेंट को बढ़ाने वाले मौजूदा मल्टी-मॉडल परिवहन मार्गों के पूरक के लिए एक विश्वसनीय और लागत प्रभावी सीमा-पार जहाज-से-रेल पारगमन नेटवर्क प्रदान करेगी.

इस बीच, जयशंकर ने महत्वपूर्ण और उभरती प्रौद्योगिकी पर भारत-अमेरिका सहयोग पर एक चर्चा में भी भाग लिया, जिसका मकसद लचीली आपूर्ति श्रृंखला बनाना है. दोनों देशों की सरकारों, व्यवसायों और शैक्षणिक संस्थानों के बीच रणनीतिक प्रौद्योगिकी साझेदारी और रक्षा औद्योगिक सहयोग को बढ़ाने और विस्तारित करने के लिए मई 2022 में भारत-अमेरिका पहल ऑन क्रिटिकल एंड इमर्जिंग टेक्नोलॉजी (iCET) की घोषणा की गई थी.

आईसीईटी (iCET) का लक्ष्य प्रौद्योगिकी मूल्य श्रृंखलाओं का निर्माण और वस्तुओं के सह-विकास और सह-उत्पादन का समर्थन करके दोनों देशों को विश्वसनीय प्रौद्योगिकी भागीदारों के रूप में स्थापित करना है. इसका उद्देश्य एक स्थायी तंत्र के माध्यम से नियामक प्रतिबंधों, निर्यात नियंत्रण और गतिशीलता बाधाओं को संबोधित करना भी है.

उम्मीद जताई गई क‍ि भारत और अमेरिका सितंबर 2023 में iCET की मध्यावधि समीक्षा करेंगे ताकि 2024 की शुरुआत में दोनों देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों के सह-नेतृत्व में अगली वार्षिक आईसीईटी समीक्षा की दिशा में गति जारी रखी जा सके. विदेश मंत्री ने वॉशिंगटन डीसी में इंडिया हाउस में कांग्रेस के सदस्यों, प्रशासन, व्यापार और थिंक टैंक प्रमुखों से भी मुलाकात की.

व‍िदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने ट्विटर हैंडल (एक्स) पर कहा क‍ि हमारी नियमित बातचीत भारत-अमेरिका संबंधों को मजबूत रखती है. इससे पहले दिन में, जयशंकर ने अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि राजदूत कैथरीन ताई से मुलाकात की और भारत और अमेरिका के बीच बढ़ते व्यापार और आर्थिक संबंधों पर चर्चा की गई. उन्होंने अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन के साथ भी बैठक की. दोनों पक्षों ने इस साल द्विपक्षीय संबंधों में हुई जबरदस्त प्रगति को मान्यता दी और इसे आगे बढ़ाने के लिए बातचीत की. विदेश मंत्री ने वैश्विक बदलावों में भारत की बढ़ती भूमिका के बारे में थिंक टैंक के साथ बातचीत में भी भाग लिया. एस. जयशंकर ने मंगलवार को न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा के 78वें सत्र को भी संबोधित किया था.

बताते चलें क‍ि व‍िदेश मंत्री एस जयशंकर 22-30 सितंबर तक अमेरिका की यात्रा पर हैं. वह आर्ट ऑफ लिविंग द्वारा आयोजित चौथे विश्व संस्कृति महोत्सव को भी संबोधित करेंगे.

Tags: Antony Blinken, Canada, G20 Summit, S Jaishankar, US News

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स