महर्षि केशवानंद की पुस्तक ‘पाथ वे टू पीस’ का विमोचन, सनातन और वैदिक विचारों के प्रसार पर बल

Gypsy News

Gypsy News

हाइलाइट्स

भारत के खिलाफ सक्रिय आतंकी गुटों पर अंकुश लगाने और टेरर फंडिंग रोकने की जरूरत
कनाडा की धमकियों से निपटने के लिए बेहतर कूटनीति की आवश्यकता

नई दिल्ली. पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) में धर्म संस्कृति और विद्या के केंद्र नीलम घाटी स्थित शारदा पीठ (Sharda Peeth) तक करतारपुर की तर्ज पर कॉरिडोर बनाने के लिए भारत सरकार को गंभीर प्रयास करना चाहिए. इस कॉरिडोर के माध्यम से ही शारदा पीठ का महत्व दुनिया तक पहुंचा जा सकता है. बौद्ध और हिंदुओं के लिए यह पवित्र स्थान दुनिया भर में सनातन और वैदिक विचारों के प्रसार और विश्व में शांति और ज्ञान के नए मानदंडों को प्राचीन काल की तरह स्थापित करने में सहायक हो सकता है. यह विचार महर्षि केशवानंद ने अपनी पुस्तक के विमोचन के अवसर पर कहे.

महर्षि केशवानंद ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह को शारदा पीठ की मुक्ति के लिए आगे आना चाहिए जिससे करोडों लोगों की आस्था जुड़ी हुई है. उन्होंने कहा कि पीठ की मुक्ति के लिए विश्वभर में भ्रमण कर जागृति अभियान चला रहे हैं.

स्वामी विवेकानंद के जीवन-दर्शन से रूबरू कराती है निखिल यादव की नई किताब

सनातन और वैदिक विचारों के प्रसार और नई दिल्ली के जनपथ स्थित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र में शारदा सर्वज्ञ पीठम्, नीदरलैंड्स के अध्यक्ष महर्षि केशवानंद ने हॉरीजन बुक्स से प्रकाशित अपनी पुस्तक ‘पाथ वे टू पीस’ के विमोचन पर आयोजित कार्यक्रम में व्यक्त किए. मुख्य अतिथि के रूप में विवेकानन्द इंटरनेशनल फाउंडेशन के विशिष्ट फेलो व पूर्व राजदूत अनिल त्रिगुणायत ने कहा कि भारत के खिलाफ सक्रिय आतंकी गुटों पर अंकुश लगाने और टेरर फंडिंग रोकने की जरूरत है. कनाडा की धमकियों से निपटने के लिए बेहतर कूटनीति की आवश्यकता है.

आदि-शंकर वैदिक यूनिवर्सिटी, नीदरलैंड्स के उप कुलपति व विश्व हिन्दू पीठाधीश्वर आचार्य मदन ने कहा कि महर्षि केशवानंद की पुस्तक सभी देशों को जोड़ने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाएगी. ए.यू.एन. नीदरलैंड्स के चेयरमैन अरिंदम भट्टाचार्य ने उम्मीद जतायी कि महर्षि केशवानन्द के आध्यात्मिक सिद्धांत वैश्विक स्तर पर बढ़ रही अशान्ति को दूर करने में कारगर सिद्ध होंगे.

इस दौरान पूर्व सांसद जय प्रकाश अग्रवाल को विशिष्ट शारदा सम्मान से विभूषित किया गया. अंतरराष्ट्रीय आध्यात्मिक ओलंपियाड के भाईजी ने कहा कि 30 करोड़ भारतीय छात्रों को धर्म और अध्यात्म से जोड़ने की आवश्यकता है.

इस अवसर पर इंस्‍टीट्यूट ऑफ हॉर्टीकल्चर, ग्रेटर नोएडा के डायरेक्टर संजय सूदन, आल इंडिया जमात ए हिन्द के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना शोइब कासमी, वरिष्ठ पत्रकार सरदार रवि रंजन सिंह, हजरत सलीम चिश्ती फाउंडेशन के सचिव अरशद चिश्ती, आम आदमी पार्टी के संस्थापक सदस्य धर्मेन्द्र कुमार, अंडमान निकोबार से नन्दीप राय शर्मा, विश्व विख्यात राज ज्योतिषी धनञ्जय तिवारी, वास्तुविद डॉ अशोक आचार्य, जी.ए.आई.ए. नेशन के अध्यक्ष चन्द्र प्रकाश, हिन्दू डिफेंस लीग के राष्ट्रीय अध्यक्ष निशांत जिंदल विशेष रूप से उपस्थित थे. कार्यक्रम के संयोजक नीदरलैंड्स की वैदिक यूनिवर्सिटी के डिप्टी रजिस्ट्रार संजय मैनी थे.

Tags: Delhi news

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स