ठाकुर Vs ब्राह्मण विवाद में मनोज झा का समर्थन कर मांझी ने चौंकाया, भाजपा से अलग लाइन पर बढ़ाई सियासत

Gypsy News

Gypsy News

हाइलाइट्स

ठाकुर बनाम ब्राह्मण विवाद में राजद सांसद मनोज झा के समर्थन में आए जीतन राम मांझी.
बिहार की बदल रही सियासत के बीच जीतन राम मांझी के कदम ने लोगों को हैरान किया.

पटना. बिहार की राजनीति में एक बार फिर जाति का मुद्दा अहम होता जा रहा है. इस बार कारण बना है वह राजद सांसद मनोज झा का वह कविता पाठ जो उन्होंने संसद में महिला आरक्षण बिल के दौरान चर्चा के दौरान किया था. ‘ठाकुर साहब’ नाम की इस कविता पाठ पर इतना विवाद बढ़ा कि अब इसमें राजनीतिक रूप से भी अलग तरह की खेमेबंदी होने लगी है. राजद के भीतर भी खेमा बंट गया तो भाजपा, लोजपा और जदयू ने भी विरोध का बिगुल बजा दिया. इसी विरोध के बीच हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के प्रमुख जीतन राम मांझी ने मनोज झा का समर्थन कर दिया है. जाहिर है मांझी का यह कदम चौंकाने वाला कदम माना जा रहा है.

दरअसल, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (सेक्युलर) के नेता और बीजेपी के सहयोगी पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी आरजेडी सांसद मनोज झा के समर्थन में उतर आए हैं. जीतन राम मांझी ने यहां तक कह दिया है कि वह इस मुद्दे को लेकर भाजपा से भी बात करेंगे. मांझी ने अपने बयान में कहा, मनोज झा के बयान से सहमत हूं. उसमें कहीं कोई बात नहीं उठनी चाहिए. लोग अपनी जाति का ध्रुवीकरण करना चाहते हैं, लेकिन मनोज झा ने सही कहा है.

मांझी ने कहा, ठाकुर का मतलब सरकार होता है, भगवान होता है. सबके मन में ठाकुर है, हर जगह दीवार में ठाकुर होता है. जाति से तुलना गलत है. अगर ठाकुर गलत सेंस पैदा कर रहा है, जिससे समाज में कोई विसंगति हो रही हो, बलात्कार हो रहा है, छिनतई हो रही है डकैती और मर्डर हो रहा है. ये ठाकुर की भावना होनी चाहिए कि जो वो गलत ठाकुर बैठ गए हैं, उसके चलते न बात है. प्यूरिफाई करने की बात उन्होंने कही है, न कि किसी जाति की बात कर रहे हैं.

पूर्व सांसद आनंद मोहन और उनके बेटे चेतन आनंद के बयान पर मांझी ने कहा, कास्ट पोलराइजेशन की कोशिश है या मनोज झा के सेंटीमेंट को नहीं समझ पाए. मैं भी कह रहा हूं कि मन का ठाकुर बिगड़ रहा है, तभी हम अपनी बेटी को भी नहीं समझ पा रहे हैं, बहन को नहीं समझ रहे हैं, किसी की औरत को नहीं समझ रहे हैं. किसी के धन को नहीं समझ रहे हैं और चलते-चलते अनाचार-अत्याचार कर रहे हैं. इस ठाकुर की बात उन्होंने कही है. ऐसे ठाकुर को दिल से हटा देना चाहिए.

बीजेपी से अपनी अलग लाइन के सवाल पर मांझी ने कहा, बीजेपी के किसी नेता की व्यक्तिगत लाइन हो सकती है, यह बीजेपी की लाइन नहीं है. हम बीजेपी के साथ हैं बीजेपी से अलग नहीं हैं. लेकिन, मनोज झा का सेंटीमेंट है, बहुत सारी बातें हैं, प्रगतिशील बातें हैं जिसे लोग धत्ता बताते हैं और दूसरे ढंग से लोग उठाते हैं. वैसी स्थिति में बीजेपी के कुछ लोग ऐसा बोलते होंगे तो उनकी अपनी लाइन है. बीजेपी की अपनी लाइन ऐसी नहीं हो सकती है, अगर ऐसी बात है तो हम बीजेपी से भी बात करेंगे.

Tags: Bihar News, Bihar politics, Caste politics, Jitan ram Manjhi

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स