निज्जर मौत से 6 दिन पहले कनाडा के इंटेल अफसरों से मिला था, बेटे का दावा; भारत को ISI पर शक

Gypsy News

Gypsy News

नई दिल्‍ली. खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की कनाडा में हत्‍या के बाद दोनों देश के राजनयिक रिश्‍ते अब तक के सबसे निचले स्‍तर पर हैं. आरोप-प्रत्‍यारोप के बीच निज्‍जर के बेटे ने अब कहा है कि उनके पिता कनाडा सुरक्षा खुफिया सेवा (CSIS) के साथ नियमित संपर्क में थे. हत्‍या से छह दिन पहले उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकात की थी. बेटे के इस बयान से भारत के उस स्‍टैंड को बल मिलता है, जिसमें साफ तौर पर कनाडा द्वारा अपने देश में खालिस्‍तान समर्थकों को बढ़ावा देने की बात कही गई है. पड़ोसी देश पाकिस्‍तान की खुफिया एजेंसी कनाडा में खालिस्‍तान समर्थकों को फंडिंग कर रही है.

सूत्रों ने सीएनएन-न्यूज18 को बताया कि हरदीप सिंह निज्जर के 21 वर्षीय बेटे बलराज सिंह ने अपने बयान में दावा किया कि उनके पिता ने फरवरी के बाद सीएसआईएस अधिकारियों से मिलना शुरू किया और उनकी हत्या के दो दिन बाद भी उनसे मिलने का कार्यक्रम था. बेटे ने दावा किया कि उन्‍हें यह सलाह दी गई थी वो अपने सामान्‍य समय पर गुरुद्वारे ना जाएं और सार्वजनिक रूप से देखे जाने से बचें. सूत्रों ने मुताबिक एजेंसियों ने सवाल किया कि अगर भारतीय एजेंटों के खिलाफ विश्वसनीय खुफिया जानकारी कनाडा के पास थी, तो निज्जर को सुरक्षा क्यों नहीं दी गई.

यह भी पढ़ें:- गुजरात में काम करके सीखा, दिल्‍ली में लागू किया… छोटा उदयपुर में बोले PM मोदी, लोगों को दी 5,206 करोड़ की सौगात

भारत को बैकफुट पर लाने के लिए ISI का प्‍लान
सूत्रों ने कहा कि निज्‍जर को सुरक्षा प्रदान नहीं करने के फैसले से पता चलता है कि किसी तरह से, कनाडा ने भी आईएसआई का समर्थन किया और निज्जर के हत्यारों तक पहुंच प्रदान की, जिससे जांच धीमी हो गई. उन्होंने कहा कि निज्जर के किसी परिचित के बिना उसके पास तक पहुंचना असंभव था क्योंकि खालिस्तानी समर्थक बेहद सतर्क और संरक्षित थे. भारत को बैकफुट पर लाने के लिए आईएसआई द्वारा यह हत्या की साजिश रची गई थी.

पन्नू ने 2 ISI एजेंट के साथ मिलकर कराई हत्‍या!
सूत्रों के अनुसार, कनाडा में दो आईएसआई एजेंट राहत राव और तारिक कियानी को निज्‍जर की हत्‍या का काम सौंपा गया था. संभवतः व्यावसायिक कारणों से ऐसा किया गया. यह कार्य किसी को दिया गया था ताकि ड्रग्‍स का पूरा कारोबार राव और कियानी के नियंत्रित में आ जाए क्योंकि निज्जर समय के साथ शक्तिशाली होता जा रहा था और स्थानीय कनाडाई समुदाय में लोकप्रियता हासिल कर रहा था. सूत्रों ने कहा कि राव, कियानी और गुरपतवंत सिंह पन्नू की तिकड़ी ने संभवतः ड्रग और इमिग्रेशन बिजनेस को नियंत्रित करने के लिए जाल बिछाया था, जो उनकी आय का मुख्य स्रोत है.

Tags: Canada News, Khalistan, Khalistani terrorist

Source link

और भी

Leave a Comment

इस पोस्ट से जुड़े हुए हैशटैग्स